रोशनी का त्योहार : प्रकाशपर्व दीपावली

दीपावली शब्द की उत्पत्ति संस्कृत के दो शब्दों ‘दीप’ अर्थात ‘दिया’ व ‘आवली’ अर्थात ‘लाइन’ या ‘श्रृंखला’ के मिश्रण से हुई है। इसके उत्सव में घरों के दरवाजों, घरों व मंदिरों पर दीपों को प्रज्वलित किया जाता है। दीपावली या दीवाली अर्थात “रोशनी का त्योहार” शरद ऋतु में हर वर्ष मनाया जाने वाला एक प्राचीन…

सफलता की राह आसान करेगी मानसिक तस्वीरें (Visualization)

सन 2006 मैं दुनिया की सबसे ज्यादा बिकने वाली पुस्तक ”The Secrets” यानी ‘रहस्य’ की लेखिका रोंडा बर्न (Rhonda Byrne) है। यह एक self-help तथा motivational पुस्तक है। इस पुस्तक की पूरी दुनियां में पचास भाषाओं में तीन करोड़ से भी ज्यादा copies बिक चुकी है। यह पुस्तक आकर्षण के नियम पर आधारित है इस…

आकर्षण के नियम (Law of Attraction) से जुड़ी दो सच्ची कहानियां।

•आकर्षण का नियम प्रकृति का नियम है । गुरुत्वाकर्षण के नियम की तरह ही यह भी निष्पक्ष है। •आकर्षण का नियम कहता है कि समान चीज़ें समान चीजों को आकर्षित करती हैं, इसलिए जब आप एक विचार सोचते हैं, तो आप उसी जैसे अन्य विचारों को अपनी और आकर्षित करते हैं । •विचार चुंबकीय हैं…

क्या आप भी परेशानियों से जूझ रहे हैं?

समय बीतता जा रहा है, पर परेशानियों का दौर खत्म नहीं हो रहा। क्या आपके साथ भी ऐसा ही हो रहा है? तो चिंतित ना होइये क्योंकि आप इस मार्ग में अकेले नहीं है। प्रत्येक व्यक्ति की अपनी एक अलग ही परेशानी है। कोई व्यक्ति अपनी नौकरी को लेकर परेशान है तो कोई नौकरी नहीं…

जिंदगी में खुश रहना क्यों जरूरी है?

समय एक बहती नदी की तरह है बचपन से जवानी और जवानी से बुढ़ापा कब आ जाता है पता ही नहीं चलता। जिंदगी में चाहे आप इस नदी में गोते लगाओ या ना लगाओ यह एक बहती नदी की तरह चलती रहती है। जिंदगी चाहे दुखी होकर बीते या फिर खुश होकर यह हमारे हाथ…

5 तुरंत प्रभावी उपाय उदास और दुखी होने से बचने के!! (How to get happy and energetic instantly)

हमारे जीवन में कई बार ऐसी समस्याएं आती हैं जो हमें उदास और दुखी कर देती है। हमें सारे रास्ते बंद नजर आते हैं और सारी आशाएं खत्म हो जाती हैं लेकिन यह समस्याएं लंबे समय तक नहीं रहती है। यह केवल एक सीमित समय तक ही रहती हैं। लेकिन इस दौरान हम काफी परेशान…

अमीर बनने का तरीका। (How can I become Rich)

एक बार की बात है। एक युवक बहुत परेशान था। कठिन परिश्रम करने के पश्चात् भी वह दो समय की रोटी नहीं जुटा पाता था। लकड़हारे के घर जन्म लेने के पश्चात् उसका जीवन ग़रीबी में ही बीता। जब वह दूसरे लोगों को आनंद भरा जीवन जीते देखता तो उसका मन भी ललचा उठता। वह…

अपनी क्षमताओं को कैसे पहचाने? (How to know self worth?)

अपनी क्षमताओं को पहचानने का पहला क़दम है अपने आप पर पूरा विश्वास रखना। क्योंकि रुकावटें आने पर सबसे पहले हम अपना विश्वास खो देते हैं। फलस्वरूप अपने काम को भी अधूरा छोड़ देते हैं और बहाना बनाने लगते हैं कि हमारी क़िस्मत ही ख़राब है या हमारे हालात ही ख़राब हैं। एक बार असफल…

कैसे निपटें जिंदगी के संघर्ष से?

एक बार एक प्रोफेसर ने अपने कुछ पुराने स्टूडेंट्स को अपने घर कॉफी पर बुलाया। उनके आने के बाद वह बारी बारी उनके काम के बारे में पूछने लगे। धीरे-धीरे बात जिंदगी में बढ़ते स्ट्रेस और काम के प्रेशर पर आ गई। सभी का कहना था कि आर्थिक रूप से मजबूत होते हुए भी उनकी…

मानसिक शांति के लिए करिए राजयोग।।

चिंता मुक्त होकर सिर्फ वही रह सकता है जो इससे निबटने की युक्ति को जानता है। चिंता के माया जाल से मुक्त होने के लिए कोई औषधि नहीं है। खान-पान, वेशभूषा, मान- मर्यादा, बच्चों का भविष्य, स्वास्थ्य, बेटी का ब्याह, रहन-सहन की शैली, रिश्ते नातों के बीच सामंजस्य, दायित्व का निर्वाह आदि अनेक ऐसी बातें…