skip to Main Content
सफलता की राह आसान करेगी मानसिक तस्वीरें (Visualization)

सफलता की राह आसान करेगी मानसिक तस्वीरें (Visualization)

सन 2006 मैं दुनिया की सबसे ज्यादा बिकने वाली पुस्तक ”The Secrets” यानी ‘रहस्य’ की लेखिका रोंडा बर्न (Rhonda Byrne) है। यह एक self-help तथा motivational पुस्तक है। इस पुस्तक की पूरी दुनियां में पचास भाषाओं में तीन करोड़ से भी ज्यादा copies बिक चुकी है। यह पुस्तक आकर्षण के नियम पर आधारित है इस नियम के अनुसार कोई भी व्यक्ति केवल अपने विचारों के जरिए जो चाहे वह पा सकता है।

इस पुस्तक का एक महत्वपूर्ण चरण है- मानसिक तस्वीरें बनाना (Visualization)
मानसिक तस्वीर देखना अपने मस्तिष्क में तस्वीरें बनाने की प्रक्रिया है । इस प्रक्रिया में आप अपनी मनचाही चीज़ों का आनंद लेते हैं । जब आप कल्पना करते हैं, तो आप उस चीज़ के अपने पास होने के सशक्त विचार और भावनाएँ उत्पन्न करते हैं । फिर आकर्षण का नियम (Law of Attraction) उसी चीज़ को सच करके आपके जीवन में भेज देता है, जिस रूप में आपने उसे अपने मस्तिष्क में देखा था ।
हर व्यक्ति में मानसिक तस्वीर देखने की शक्ति होती है । आइए, मैं एक किचन की मानसिक तस्वीर बनाकर आपके सामने यह साबित कर देती हूँ । यह काम करने के लिए सबसे पहले तो आपको अपने किचन के सभी विचार अपने दिमाग़ से बाहर निकालने होंगे । अपने किचन के बारे में ज़रा भी न सोचें । अपने किचन, इसके कबर्ड, रेफ्रिजरेटर, ओवन, टाइल्स और रंग-रोगन की तस्वीरें अपने दिमाग़ से पूरी तरह बाहर निकाल दें… आपने दिमाग़ में अपने किचन की तस्वीर देखी, है ना? आपने अभी-अभी मानसिक तस्वीर देख ली है!

”हर व्यक्ति मानसिक तस्वीर देखता है, चाहे उसे यह बात मालूम हो या न हो । मानसिक तस्वीर (Visualization) देखना सफलता का महान रहस्य है ।”
यहाँ पर मानसिक तस्वीर देखने के बारे में एक टिप दी जा रही है, जो डाॅ. जॉन डेमार्टिनी अपने सेमिनारों में देते हैं । जॉन कहते हैं कि अगर आप अपने दिमाग़ में कोई स्थिर तस्वीर बनाते हैं, तो उसे क़ायम रखना मुश्किल हो सकता है, इसलिए सक्रिय तस्वीर बनाएँ और उसमें बहुत सी गतिविधियाँ भर लें । उदाहरण के लिए, दोबारा अपने किचन की कल्पना करें और इस बार कल्पना करें कि आप किचन में दाखिल हो रही हैं, फ़्रिज तक जा रही हैं, उसके दरवाजे़ के हैंडल पर हाथ रख रही हैं, दरवाजा़ खोल रही हैं, अंदर देख रही हैं और ठंडे पानी की बोतल खोज रही हैं । अंदर हाथ डालकर बोतल उठाएँ । बोतल पकड़ते समय आप अपने हाथ में इसकी ठंडक महसूस कर सकती हैं । आपके एक हाथ में पानी की बोतल है और दूसरे हाथ से आप फ़्रिज का दरवाजा़ बंद करती हैं । अब जब आपने विस्तार और गतिशीलता से अपने किचन की मानसिक तस्वीर ली है, तो इसे देखना और क़ायम रखना ज़्यादा आसान है, है ना?”हम सभी में इतनी ज़्यादा शक्तियाँ और संभावनाएँ हैं कि हमें उनका एहसास ही नहीं है ।

मानसिक तस्वीर देखना इन्हीं महानतम शक्तियों में से एक है ।” जेनेवीव बेहरेंड

फ़ैसला करें कि आप क्या चाहते हैं । यक़ीन करें कि आप इसे पा सकते हैं । यक़ीन करें कि आप इसके हक़दार हैं और यक़ीन करें कि यह आपके लिए संभव है । और फिर हर दिन अपनी आँखें कुछ मिनट के लिए बंद करके मानसिक तस्वीर देखें कि आप जो चाहते हैं, वह आपके पास है । इसके अपने पास होने की भावनाएँ महसूस करें । इसके बाद उस पर ध्यान केंद्रित करें, जिसके लिए आप पहले से ही कृतज्ञ हैं और इसका सचमुच आनदं लें । फिर अपना दिन शुरू करें और उसे ब्रह्मांड को समर्पित कर दें । और भरोसा रखें कि ब्रह्मांड यह पता लगा लेगा कि उस चीज़ को आपके जीवन में कैसे प्रकट करना है ।

”कल्पना ही सब कुछ है । यह जीवन के आगामी आकर्षणों का पूर्वदर्शन है । ”

अल्बर्ट आइंस्टाइन

अगर आप अपने मस्तिष्क में शंका का एक भी विचार दाख़िल होने देते हैं, तो आकर्षण का नियम जल्दी ही एक के बाद एक शंकाएँ खींच लाएगा । जिस पल शंका का कोई विचार आए, उसी पल उसे फौरन बाहर निकाल दें । उस विचार को बाहर भेज दें । उसकी जगह यह सोचें, ”मैं जानता हूँ कि यह चीज़ मुझे मिल रही है । ” और इसे महसूस करें ।

Advertisements

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back To Top