skip to Main Content
सरकारी नौकरी की चाह में युवाओं में बढ़ता डिप्रेशन और तनाव।

सरकारी नौकरी की चाह में युवाओं में बढ़ता डिप्रेशन और तनाव।

आज के इस समय में हर युवा को जॉब सिक्योरिटी तथा फाइनेंशियल स्टेबिलिटी चाहिए। प्रत्येक छात्र और युवा को सरकारी नौकरी चाहिए क्योंकि सरकारी नौकरी ही एक ऐसी जॉब है जिसमें फाइनेंशियल स्टेबिलिटी तथा जॉब सिक्योरिटी मिलती है कई प्राइवेट संस्थान भी जॉब सिक्योरिटी देते हैं लेकिन सरकारी नौकरी का एक विशेष महत्व है। इसी वजह से लाखों युवा अलग-अलग क्षेत्रों में प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे हैं इनमें से बहुत सारे युवा और छात्र बड़ी मेहनत के साथ तैयारी कर रहे हैं ताकि उनका चुनाव प्रतियोगी परीक्षाओं में हो जाए तो कुछ छात्र केवल अपना भाग्य आजमाने के लिए प्रतियोगी परीक्षाओं का फॉर्म भरते हैं।

प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करना एक बेहद चुनौतीपूर्ण कार्य है क्योंकि इसमें बड़े लंबे समय तक सतत प्रयास की आवश्यकता होती है जो कि प्रत्येक छात्र के बस में नहीं है यही वजह है कि छात्रों में डिप्रेशन तथा तनाव पैदा हो रहा है।

इस डिप्रेशन और तनाव के पैदा होने की कई वजह है जिनमें से विस्तृत सिलेबस, आरक्षण, परीक्षाओं का दोबारा होना, रिजल्ट में हो रहे घोटाले, परीक्षा तथा नियुक्ति के बीच का लंबा समय और भी कई सारी वजह है जिनकी वजह से छात्र डिप्रेशन और तनाव में आ रहे हैं।

दिन रात मेहनत करने के लिए तथा डिप्रेशन से बचने के लिए कई छात्र नशीले पदार्थों का सेवन कर रहे हैं जो कि उनके स्वास्थ्य के लिए बहुत हानिकारक है।

कैसे बचे डिप्रेशन तथा तनाव से-

प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी के दौरान होने वाले डिप्रेशन और तनाव से बचने के लिए है छात्र नशीले पदार्थों का सेवन कर रहे हैं जोकि युवा पीढ़ी के भविष्य के लिए बेहद खतरनाक है। डिप्रेशन और तनाव से बचने के लिए यहां पर हम कुछ उपाय सुझा रहे हैं जिनका उपयोग करके आप अपनी तैयारी को और भी बेहतर बना सकते हैं।

1. पर्याप्त आराम करें– जिस प्रकार हम भोजन करने के पश्चात उसे पचाने के लिए अपने पेट को जो समय देते हैं उसी प्रकार आप प्रतियोगी परीक्षाओं के दौरान जो भी पढ़ते हैं उसे अपने दिमाग को पचाने के लिए कुछ आराम देना बेहद जरूरी है ताकि आपने जो भी डाटा अपने दिमाग में फीड किया है वह सेव हो सके। लगातार पढ़ाई के दौरान प्रत्येक घंटे 5 या 10 मिनट का ब्रेक अवश्य लें इस दौरान आप एक झपकी ले सकते हैं या कुछ मनोरंजक संगीत सुन सकते हैं। प्रत्येक रात्रि को कम से कम 6 घंटे की नींद अवश्य लें।

2. टाइम-टेबल निर्धारण- टाइम टेबल निर्धारित करने से यह मतलब नहीं है कि आपको प्रत्येक काम एक निश्चित समय पर करना है प्रत्येक छात्र की अपनी एक अलग विशेषता होती हैं कुछ छात्र रात को पढ़ाई करने में ज्यादा उपयुक्त होते हैं तो कुछ छात्र सुबह जल्दी उठकर पढ़ाई करने में उपयुक्त होते हैं आपको कौन सा समय ज्यादा सूटेबल होता है उसी अनुसार अपना पढ़ाई का समय निर्धारित करें।

3. मोटिवेशन का सहारा लें- कभी-कभी लगातार पढ़ाई करने के कारण हमारा दिमाग कंफ्यूज हो जाता है कि हमने क्या पढ़ा और क्या नहीं। यह इस वजह से होता है कि हमारे दिमाग को हमने जो भी पढ़ा है उसे पचाने का समय नहीं मिला। इस समस्या से बचने के लिए आप मोटिवेशन का सहारा ले सकते हैं क्योंकि मोटिवेशन से दिमाग ज्यादा सक्रिय हो जाता है। इसके लिए आप मोटिवेशनल गाने सुन सकते हैं, मोटिवेशनल ब्लॉग्स पढ़ सकते हैं तथा मोटिवेशनल वीडियो देख सकते हैं।

युवाओं को डिप्रेशन तथा तनाव से राहत देने के लिए यूट्यूब पर संदीप माहेश्वरी बहुत महत्वपूर्ण योगदान दे रहे हैं संदीप माहेश्वरी एक मोटिवेशनल स्पीकर हैं जो कि यूट्यूब पर बहुत प्रचलित है विशेषतः युवाओं को करियर संबंधित मार्गदर्शन देने में।

4. मनोरंजन अवश्य करें- मनोरंजन जिंदगी का सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा है प्रत्येक व्यक्ति के पास एक दिन में 24 घंटे होते हैं इसमें से प्रत्येक दिन 1 या 2 घंटे मनोरंजन के लिए समय अवश्य निकालें। प्रत्येक दिन के साथ साथ हमारी आयु भी बढ़ती जा रही है जो समय बीत रहा है वह कभी वापस लौटकर नहीं आएगा बस कुछ मीठी यादें ही रह जाएंगी जो हमेशा याद आएगी। अपने प्रत्येक दिन को यादगार बनाने की कोशिश करें। प्रत्येक व्यक्ति के लिए मनोरंजन के अलग अलग तरीके हैं जैसे पिकनिक पर जाना, कोई फिल्म देखना, गाने सुनना, सोशल मीडिया, पार्टी, शॉपिंग और भी बहुत तरीके हो सकते हैं जिनसे कि आप अपने दिमाग को रिफ्रेश कर सकें। आपका दिमाग जितना ज्यादा तरोताजा होगा उतना ही जल्दी वह नई जानकारी को अपने दिमाग में ग्रहण करेगा।

5. दो बार स्नान अवश्य करें- प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी के दौरान निरंतर पढ़ाई के कारण शारीरिक थकान के साथ-साथ मानसिक थकान भी हो जाती है इसलिए प्रत्येक दिन कम से कम दिन में दो बार स्नान अवश्य करें जिससे कि शरीर की प्रत्येक कोशिका फिर से एक बार ताजा हो जाती है।स्नान करने के पश्चात हमारा दिमाग मानसिक रूप से और भी ज्यादा मजबूत हो जाता है और नई जानकारी को बहुत आसानी से ग्रहण कर लेता है।

दोस्तों आपको इस पोस्ट में दी गई जानकारी के बारे में कैसा लगता है इस बारे मैं आपके महत्वपूर्ण सुझाव हमें कमेंट बॉक्स में अवश्य लिखें।

Advertisements

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back To Top