skip to Main Content
रेत और चीनी: एक दिलचस्प कहानी

रेत और चीनी: एक दिलचस्प कहानी

बादशाह अकबर के दरबार की कार्यवाही चल रही थी, तभी एक दरबारी हाथ में शीशे का एक बर्तन लिए वहां आया। बादशाह ने पूछा- ‘क्या है इस बर्तन में?’

दरबारी बोला- ‘इसमें रेत और चीनी का मिश्रण है।’

‘वह किसलिए’ – फिर पूछा बादशाह अकबर ने।

‘माफी चाहता हूं हुजूर’ – दरबारी बोला। ‘हम बीरबल की काबिलियत को परखना चाहते हैं, हम चाहते हैं की वह रेत से चीनी का दाना-दाना अलग कर दे।’

बादशाह अब बीरबल से मुखातिब हुए, – ‘देख लो बीरबल, रोज ही तुम्हारे सामने एक नई समस्या रख दी जाती है, अब तुम्हे बिना पानी में घोले इस रेत में से चीनी को अलग करना है।’

‘कोई समस्या नहीं जहांपनाह’ – बीरबल बोले। यह तो मेरे बाएं हाथ का काम है, कहकर बीरबल ने बर्तन उठाया और चल दिया दरबार से बाहर!

बीरबल बाग में पहुंचकर रुका और बर्तन में भरा सारा मिश्रण आम के एक बड़े पेड़ के चारों और बिखेर दिया- ‘यह तुम क्या कर रहे हो?’ – एक दरबारी ने पूछा

बीरबल बोले, – ‘यह तुम्हे कल पता चलेगा।’

अगले दिन फिर वे सभी उस आम के पेड़ के नीचे जा पहुंचे, वहां अब केवल रेत पड़ी थी, चीनी के सारे दाने चीटियां बटोर कर अपने बिलों में पहुंचा चुकी थीं, कुछ चीटियां तो अभी भी चीनी के दाने घसीट कर ले जाती दिखाई दे रही थीं!

‘लेकिन सारी चीनी कहां चली गई?’ दरबारी ने पूछा

‘रेत से अलग हो गई’ – बीरबल ने कहा।

सभी जोर से हंस पड़ें,

बादशाह ने दरबारी से कहा कि अब तुम्हें चीनी चाहिए तो चीटियों के बिल में घुसों।’

सभी ने जोर का ठहाका लगाया और बीरबल की अक्ल की दाद दी।

Related Posts-

बैंक का चेक: बेहद प्रेरक कहानी

आशावादी बनो।। एक प्रेरक कहानी।

तीन सवाल: एक दिलचस्प कहानी

 

 

Advertisements

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back To Top